Judge Kaise bane

न्यायाधीश एक ऐसा व्यक्ति है जो कानूनों के संबंध में सुनवाई और परीक्षणों के आधार पर अपना निर्णय देते है | एक न्यायाधीश के समक्ष नागरिक विवाद, यातायात के उल्लंघन और व्यापार विवाद के निर्णय हेतु प्रस्तुत किये जाते है | इस प्रकार के विवादों को सुनकर ,साक्ष्यों के आधार पर उपयुक्त निर्णय देने का अधिकार एक जज को प्राप्त है ,और जज द्वारा दिया गया यह निर्णय सर्वमान्य होता है |

Judge के लिए योग्यता – अभ्यर्थी को बारवीं की परीक्षा 45 प्रतिशत अंको के साथ उत्तीर्ण होना अनिवार्य है, इसके बाद यूनिवर्सिटी द्वारा प्रवेश परीक्षा का आयोजन किया जाता है, जिसमे सफल होने के बाद आपको बीए एलएलबी में प्रवेश मिल जायेगा जिसकी अवधि पांच वर्ष है, इसके साथ-साथ आप स्नातक की परीक्षा 45 प्रतिशत अंको के साथ उत्तीर्ण करके एलएलबी के तीन वर्षीय कार्यक्रम में प्रवेश प्राप्त कर सकते है |

  •  न्यायाधीश बननें हेतु अभ्यर्थी को भारत का नागरिक होना अवशयक है ।
  • दो या दो से अधिक न्यायालयों में लगातार कम से कम पांच वर्षों तक न्यायाधीश के रूप में कार्य का अनुभव होना चाहिए | अथवा
  • किसी उच्च न्यायालय में निरंतर दस वर्ष तक अधिवक्ता के रूप में कार्य करनें का अनुभव हो |
  •  किसी उच्च न्यायालय के न्यायाधीश या फिर उच्चतम न्यायालय या उच्च न्यायालय के सेवानिवृत्त न्यायाधीश को उच्चतम न्यायालय के एक तदर्थ न्यायाधीश के रूप में नियुक्त किया जा सकता है !
  • न्यायाधीश बननें हेतु अभ्यर्थी की आयु 62 वर्ष के अन्दर होना चाहिए |

Judge  हेतु आयु सीमा –  सर्वोच्च न्यायालय के न्यायाधीश बनने की कोई न्यूनतम आयु सीमा नहीं है। हालांकि, सुप्रीम कोर्ट का न्यायाधीश तब तक ही अपने पद पर रह सकता है जब तक कि वह 65 वर्ष की आयु प्राप्त नहीं कर लेता है।

Judge Salary In Hand –  जज के वेतन या वेतनमान राज्य सरकारों द्वारा निर्धारित नियम के अनुसार तय किए जाते हैं उनका वेतनमान 9,000 से 14,550 से अधिक अन्य भत्ते कुल राशि 28,800 रुपये. यह वेतन पुराने वेतनमान के अनुसार है लेकिन छह वेतन आयोग की सिफारिश के अनुसार मजिस्ट्रेट का वेतन निकट भविष्य में तीन गुना तक बढ़ सकता है

Judge Selection Process :- एलएलबी की परीक्षा उत्तीर्ण करने के बाद आप के पास अधिवक्ता के अतिरिक्त कई विकल्प खुल जाते है, आप एक मल्टीनेशनल कंपनी में जॉब आसानी से प्राप्त कर सकते है, अनुभव बढ़ने के बाद आप सरकारी या प्राइवेट विभाग में लीगल कंसल्टेंट का कार्य कर सकते है | भारत सरकार और राज्यों में अटॉर्नी जनरल के पद पर कार्य कर सकते है, यह बहुत ही एक्सपर्ट और अनुभवी होते हैं, इसके आलावा आप अध्यापन के क्षेत्र में जाने के लिए एलएलएम और एलएलडी कर सकते है जिसमे की अत्यधिक सम्मान प्राप्त होता है, इसके अतिरिक्त आप भारतीय और मल्टीनेशनल कंपनियों में लीगल एडवाइजर के रूप में कार्य कर सकते है |

 Work Of Judge Officer:-
अदालत में न्यायाधीश केजीएफ से आम कर्तव्यों में से है शायद आप पहले से ही इनमें से कुछ कर्तव्यों को जानते होंगे
मामले की प्रक्रिया और परीक्षणों के दौरान न्यायधीश को यह सुनिश्चित करने की आवश्यकता होती है कि मामले में पूछे जाने वाले प्रश्न अन्य माननीय और उपयुक्त है यदि नहीं तो प्रश्न पूछने वाली पार्टी को ऑब्जेक्शन करें जैसा कि आपने फिल्मों में देखा होगा न्यायधीश हमेशा आर्डर आर्डर करते हैं अदालत में शीर्षक स्थान धारण करने के रूप में जज की हैसियत से अदालत में सभी कानून और व्यवस्था को बनाए रखने के लिए जिम्मेदार हैअदालत के न्यायाधीश के रूप में आपको यह सुनिश्चित करना होगा कि सभी मुद्दे कानून प्रक्रिया के दायरे में वह सुनिश्चित करते हैं कि केस सुनवाई के दौरान मामले से संबंधित सभी मुद्दे शामिल हैं बिना किसी निष्पक्षता के मामले का निर्णय करना मुकदमे में बाजी की प्रक्रिया के दौरान प्रदान किए गए की प्रमाणिकता की जांच करना एक अदालत में एक न्यायधीश एक सामान्य साम्राज्य के रूप में कार्य करता है जो दोनों पक्षों पर तक आता है और यह सुनिश्चित करता है कि दोनों पक्षों के पास समान अवसर हो

Related Useful Article

Leave a Comment

Don`t copy text!