Chief Election Commissioner of India Salary

Join Our WhatsApp Group
Join Our Telegrem Channel
 Chief Election Commissioner of India :- भारत में लोकसभा व राज्यसभा के चुनाव के लिए मुख्य चुनाव आयुक्त का निर्माण किया गया है। भारत में मुख्य चुनाव आयुक्त चुनाव आयोग का प्रमुख होता है। जो राष्ट्र में होने वाली राज्यसभा और लोकसभा चुनाव कराने के लिए संवैधानिक रुप से सर्व शक्तिमान होता है। भारत में चुनाव आयु का निर्माण भारत के संविधान के अनुच्छेद 324 के अंतर्गत किया गया है। भारत का मुख्य चुनाव आयुक्त आमतौर पर भारतीय सिविल सेवा का सदस्य होता है और अधिकतर भारतीय प्रशासनिक सेवा से राष्ट्रपति द्वारा नियुक्त किया जाता है। Chief Election Commissioner of India Salary
हालांकि मुख्य चुनाव आयुक्त को हटाना मुश्किल है। क्योंकि लोकसभा और राज्यसभा के दो तिहाई से अधिक सदस्यों को अव्यवस्थित आचरण को अनुचित कार्यों के लिए उनके खिलाफ पेश करने और उन में मतदान करने की आवश्यकता होती है। आज हम इस आर्टिकल के माध्यम से Chief Election Commissioner of India के बारे में बात करेंगे और मुख्य चुनाव आयुक्त को कितनी सैलरी मिलती है। इसका भी जिक्र करेंगें।
Chief Election Commissioner of India :- 
1.भारत के उप चुनाव आयुक्त के रूप में सुनील अरोड़ा अभी कार्यरत है। इन्हें 2 दिसंबर 2018 से नियुक्त किया गया है।
2. चुनाव से संबंधित कई प्रकार के नियम व कानून लागू करना मुख्य चुनाव आयुक्त के हाथ में होता है।
3. मतदान किस माध्यम से करवाना है और उसका सारा डाटा भी मुख्य चुनाव आयुक्त के निरीक्षण में रहता है।
4. मतदान होने के पश्चात मुख्य चुनाव आयुक्त फुल सिक्योरिटी के अंतर्गत वोटों की गिनती शुरु करवाते हैं।
5. कौन से चुनाव में वोटिंग मशीन का उपयोग करना है। इनका भी निर्णय मुख्य चुनाव आयुक्त करते हैं।
6. मुख्य चुनाव आयुक्त पद पर कार्यरत व्यक्ति किसी भी पार्टी या सरकार के अंडर में कार्य नहीं करते हैं।
7. देश में लोकतंत्र को बढ़ावा देने के लिए मुख्य चुनाव आयुक्त कार्य करता है।
8. मुख्य चुनाव आयुक्त देश में कई दिशा निर्देश और नियम की शक्तियां मुख्य चुनाव आयोग के अंडर में होती हैं और मुख्य चुनाव आयुक्त पर कार्यरत व्यक्ति देश में चुनाव से संबंधित कई प्रकार के दिशा निर्देश जारी कर सकता है।
9. साल 2014 में संसदीय चुनाव में पूरी तरह से इलेक्ट्रॉनिक मतदान करवा कर भारत को दुनिया का पहला एकमात्र देश बना दिया था। भारत में चुनाव आयोग ने इसे पूरी तरह से भारतीयों की आबादी में सफलतापूर्वक लागू किया।
10. भारतीय राजनीति प्रक्रिया में मशीनरी का एक महत्वपूर्ण योगदान रहा है। क्योंकि वोटों की गिनती में बहुत ज्यादा समय लगता था उसका निवारण मशीनरी के कारण कम हो गया है। सन 1990 से 1996 तक भारतीय चुनाव आयोग में काफी बदलाव देखने को मिला था।
11. जून 2012 में एक भारतीय राजनीतिक और भारत के पूर्व उप प्रधानमंत्री लालकृष्ण आडवाणी ने मतदान के लिए इलेक्ट्रॉनिक तरीका अपनाने का सुझाव दिया था। उस सुझाव को प्रधानमंत्री मुख्य न्यायाधीश और कानून मंत्री द्वारा पास किया गया।
12. आज के समय में मुख्य चुनाव आयुक्त पर सुनील अरुणा नियुक्त किए गए हैं और भारतीय चुनाव आयोग में अपना कार्य कर रहे हैं।
Chief Election Commissioner of India की सैलरी :- 
भारतीय चुनाव आयोग में नियुक्त किए गए मुख्य चुनाव आयुक्त की सैलरी बहुत अच्छी होती है। भारतीय चुनाव आयोग में मुख्य चुनाव आयुक्त पद पर कार्यरत व्यक्ति जिसका पद चुनाव आयोग का सबसे बड़ा पद माना जाता है। इसीलिए इस पद पर कार्य करने वाले व्यक्ति को सैलरी चुनाव आयोग कि बाकी पदों की तुलना में अधिक मिलती है। सन 1991 में भारत के सर्वोच्च न्यायालय के न्यायाधीश ने पहली बार मुख्य चुनाव आयुक्त की सैलरी को निर्धारित किया था। अब साल 2016 की सातवें वेतन आयोग के पश्चात मुख्य चुनाव आयुक्त की सैलरी की बात की जाए, तो मुख्य चुनाव आयुक्त पद पर कार्य करने वाले व्यक्ति को तनख्वाह ₹250000 प्रति महीना मिलती है।
ये भी पढ़े :- Salary of President of India
सभी प्रकार को जॉब्स की सलेरी देखे 

Leave a Comment