Comptroller And Auditor General Of India Salary

Join Our WhatsApp Group
Join Our Telegrem Channel

Comptroller and Auditor General of India :- भारत में सरकार हर 5 साल के बाद अगली पार्टी की बनती है। ऐसे में देश का एक ऐसा व्यक्ति नियुक्त किया जाता है। जो हर पार्टी के सरकार द्वारा खर्च किए गए,पैसे का हिसाब – किताब उस व्यक्ति को देना पड़े। ताकि राजनीतिक पार्टियां पैसा खर्च करने से पहले उसका उचित कारण अवश्य ढूंढे। भारत में हर प्रकार के खर्च का लेखा-जोखा करने के लिए भारत का नियंत्रक और महालेखा परीक्षक रखा गया है।यह एक प्रकार का प्राधिकरण है। जिसको भारत के संविधान में अनुच्छेद 148 द्वारा स्थापित किया गया है। अनुच्छेद 148 द्वारा भारत का नियंत्रक और महालेखा परीक्षक को नियुक्त करना आवश्यक बताया। आज हम इस आर्टिकल के माध्यम से Comptroller and Auditor General of India के बारे में बात करेंगे।

Comptroller and Auditor General of India :-
1. आज के समय में भारत के नियंत्रक और महालेखा परीक्षक राजीव महरिशी है। जिन्हें 25 सितंबर 2017 को नियुक्त किया गया।
2. भारत में नियंत्रक और महालेखा परीक्षक बनने के लिए आयु की सीमा 18 वर्ष से 65 वर्ष तक होती है। इस अवधि के बीच में व्यक्ति भारत के नियंत्रक और महालेखा परीक्षक का पद हासिल कर सकता है।
3. भारत का नियंत्रक और महालेखा परीक्षक का उल्लेख भारतीय संविधान के अनुच्छेद 148 से 151 के अंतर्गत किया गया है।
4. भारत में नियंत्रक और महालेखा परीक्षक को शपथ सर्वोच्च न्यायालय के न्यायाधीश दिलाते हैं।
5. भारत के वर्तमान समय में नियंत्रक और महालेखा परीक्षक राजीव महरिशी है। यह भारत के 23वें नियंत्रक और महालेखा परीक्षक बने हैं।
6. नियंत्रक और महालेखा परीक्षक पद पर शपथ लेने वाले व्यक्ति को भगवान के नाम पर शपथ लेनी होती है।
7. भारत के नियंत्रक और महालेखा परीक्षक हर प्रकार की कंपनियों या देश के खाते में आए गए पैसे का लेखा-जोखा रखते हैं और देश के विकास के लिए खर्च किए गए पैसों का भी हिसाब नियंत्रक और महालेखा परीक्षक द्वारा रखा जाता है।
8. संविधान के प्रावधानों के अनुसार नियंत्रक और महालेखा परीक्षक के नियम व कर्तव्य शक्तियां जिनका प्रावधान 1971 अधिनियम के तहत किया गया।
9. भारत के निरीक्षक और महालेखा परीक्षक देश में हो रहे, हर प्रकार के खर्चे ट्रेडिंग,विनिर्माण, लाभ और हानि इत्यादि खाते की बैलेंस शीट तैयार करते हैं। तथा किसी भी सरकारी विभाग में रखे गए, अन्य सहायक खाते सरकारी कार्यालय या विभागों में रखे गए भंडार का स्टॉक का नियंत्रण की करते हैं।
10. पंचायती राज द्वारा पैसों के खर्च होने का लेखा-जोखा विवरण भी भारत के निरीक्षण और महालेखा परीक्षक द्वारा सत्यापित किया जाता है।

Comptroller and Auditor General of India की सैलरी :-
भारत में पूरे देश का लेखा जोखा रखने के लिए भारत के निरीक्षक और महालेखा परीक्षक पद को नियुक्त किया जाता है। यह पद लेखा-जोखा विभाग का सबसे बड़ा पद है। इसीलिए इस पद पर कार्य कर रहे व्यक्ति की सैलरी काफी अच्छी होती है। इस पद पर कार्यरत व्यक्ति की सैलरी प्रधानमंत्री से भी अधिक होती है। साल 2016 में सातवें वेतन आयोग के लागू होने के पश्चात Comptroller and Auditor General of India की सैलरी की बात की जाए, तो इस पद पर कार्यरत व्यक्ति को ₹250000 प्रति महीना मिलता है।

इस आलेख को इंग्लिश पढ़े :- Salary of President of India
सभी प्रकार को जॉब्स की सलेरी देखे 

Leave a Comment