Member of Parliament Salary 2022

Member of Parliament of India :- भारत में लोकसभा और राज्यसभा के सदस्यों को संसद में अलग-अलग रूप से निर्धारित किया गया है भारत में लोकसभा के सदस्य और राज्यसभा के सदस्य जो देश में बनने वाले कई प्रकार के कानून में अपनी भूमिका निभाते हैं। गृहमंत्री व प्रधानमंत्री द्वारा लाए गए, बिल को पास करके कानून बनाने में सहायता करते हैं। राज्यसभा और लोकसभा में सीटें निर्धारित होती है। जिस पार्टी की सरकार होती है। उस पार्टी के अलावा विपक्षी पार्टी के सदस्य भी लोकसभा और राज्यसभा में बैठते हैं।Member of Parliament Salary and Benefits in India , Mp Salary in India Per Month , Salary of Prime Minister of India , Mp Salary in India 2022 , Member of Parliament Salary 2022 , Mp Salary in India 2022 Per Month

भारत देश विधान पालिका का सर्वोच्च निकाय देश है। यह द्विसदनीय व्यवस्था पर आधारित देश है। भारतीय संसद में राष्ट्रपति द्वारा लोकसभा व राज्यसभा के 2 सदस्यों को मनोनीत किया जाता है। राष्ट्रपति के पास संसद में लोकसभा व राज्यसभा के सदस्यों को बंद करने की शक्ति होती है। भारतीय संसद का संचालन संसद भवन में किया जाता है। जो भारत की राजधानी नई दिल्ली में स्थित है। राज्यसभा को उच्च सदन नाम से जाना जाता है और लोकसभा को निम्न सदन कहा जाता है। आज हम इस आर्टिकल के माध्यम से Member of Parliament of India के बारे में संपूर्ण जानकारी का जिक्र करेंगे।

Member of Parliament of India :-
  • भारत के संसद का प्रकार द्विसदनीय हैं। भारत में राज्यसभा और लोकसभा के सदस्य को संसद के नाम से जाना जाता है।
  • भारत के राज्य सभा के संसद के अध्यक्ष वेंकैया नायडू है।  जिन्हें 25 जुलाई 2017 को नियुक्त किया गया है और राज्यसभा के उपाध्यक्ष हरिवंश नारायण सिंह है। जिन्हें 11 अगस्त 2017 को नियुक्त किया गया है।
  • राज्यसभा सदन के नेता जो सरकार के पक्ष के हैं। उनका नाम थावरचंद गहलोत है, जो भारतीय जनता पार्टी से है। इनकी नियुक्ति 8 अगस्त 2018 को हुई है। विपक्षी पार्टी के नेता गुलाम नबी आजाद है, जो कांग्रेस पार्टी से है। इनकी नियुक्ति 11 जून 2019 को हुई है।
  • भारत के लोकसभा सदस्यों की अध्यक्ष ओम बिरला है। जो भारतीय जनता पार्टी से है। इनकी नियुक्ति 8 जून 2019 को हुई है। लोकसभा के उपाध्यक्ष का पद रिक्त है। लोकसभा के नेता नरेंद्र मोदी है। जो 25 मई  2019 को नियुक्त किए गए हैं। लोकसभा के विपक्ष नेता का पद रिक्त है।
  • भारतीय लोकतंत्र में संसद जनता के लिए संघ प्रतिनिधि के रूप में कार्य करते हैं। भारत में लोकसभा संसद के चुनाव के आधार पर ही प्रधानमंत्री का चुनाव होता है और राज्यसभा संसद के चुनाव के आधार पर मुख्यमंत्री को चयनित किया जाता है।
  • भारत के संविधान में अधीन संघीय विधान मंडल को संसद कहां गया है। यह एक देश के शासन की नींव है। जिनका कार्य देश में कई प्रकार के कार्यों को संपन्न करना है। भारतीय संसद को 2 शब्दों में विभाजित किया गया है। एक राज्यसभा और दूसरा लोकसभा यह दोनों सदन मिलकर भारत का शासन चलाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।
  • भारत में राज्यसभा के सदस्यों की संख्या 250 होती है।  जिसमें से 12 सदस्य राष्ट्रपति द्वारा मनोनीत किए जाते हैं। कुल 238 राज्यों और राज्य संघ क्षेत्रों द्वारा सदस्य चुने जाते हैं। राज्यसभा में इस समय कुल 245 सदस्य हैं। इसमें से 233 सदस्य निर्वाचित है और बाकी 12 सदस्यों को राष्ट्रपति द्वारा मनोनीत किया गया है।
  • लोकसभा में कुल 552 सदस्य होते हैं जिनमें से दो सदस्यों को राष्ट्रपति द्वारा मनोनीत किया जाता है।
Member of Parliament of India की सैलरी :-
भारत के लोकसभा और राज्यसभा के सदस्यों को एक निश्चित सैलरी सरकार द्वारा दी जाती है। भारत का शासन चलाने के लिए संसद के सदस्यों की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। भारत में 2016 में सातवां वेतन आयोग लागू हो गया। सातवें वेतन आयोग के पश्चात सभी सरकारी कर्मचारियों की सैलरी में बढ़ोतरी हुई है। भारत में Member of Parliament of India की सैलरी ₹100000 प्रति महीना है।
सभी प्रकार को जॉब्स की सलेरी देखे 

Leave a Comment

Don`t copy text!