Rajasthan MLA Salary

राजस्थान के विधायक के कार्य:- राजस्थान की विधानसभा में हर एक तहसील से एक विधायक को चुना जाता है। विधायक का चुनाव विधानसभा चुनाव के दौरान किया जाता है और इन्हीं विधायकों के चुनाव के आधार पर मुख्यमंत्री का चुनाव होता है। साल 2018 में विधानसभा चुनाव के दौरान हर एक को चुना गया है। विधायक तहसील का मुखिया होता है। तहसील से संबंधित हर प्रकार के कार्य विधायक द्वारा संपन्न किए जाते हैं। एक तहसील में विधायक की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। विधायक  विधानसभा में भी अपने कई महत्वपूर्ण कार्य संपन्न करता है। विधानसभा में विधायक की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। आज हम इस आर्टिकल के माध्यम से राजस्थान के विधायक की सैलरी , Rajasthan Mla Salary , Rajasthan Mlas Increase Salary and Allowance , Salary of Rajasthan Ministers, Mp Salary in Rajasthan ,
Mp Salary in India 2020 , Mla Salary in Rajasthan in Hindi  , Mla Salary in Rajasthan , Rajasthan Mla Salary , Salary of Mla in Rajasthan , Mla Salary Rajasthan , Salary of Mla in Rajasthan 2021 , राजस्थान में विधायक की सैलरी  के बारे में बात करेंगे।

 राजस्थान के विधायक के कार्य :- 
1. विधायक को तहसील के मुख्य के तौर पर चुना जाता है और तहसील से संबंधित हर प्रकार के विकास कार्य में विधायक की महत्वपूर्ण भूमिका होती है।
2. विधायक की भूमिका कानूनों की भावना एवं नए कानून की योजना बनाने उसका अध्ययन करने और उसके ऊपर चर्चा करने में महत्वपूर्ण होती है। हर एक विधायक राज्य में बनने वाले कानून में अपनी भूमिका निभाकर उसका समर्थन करते हैं या विरोध करते हैं। उसके पश्चात कानून पारित किया जाता है।
3. विधानसभा बैठक के दौरान विधायकों द्वारा राज्य में बनने वाले नए क़ानून पर चर्चा में अपने अपने सुझाव दिए जाते हैं।
4. निर्वाचित क्षेत्र के प्रतिनिधि के रूप में विधायक अपने क्षेत्र में होने वाले सभी कार्यों का निरीक्षण करता है। साथ ही हर प्रकार की समस्या का निवारण करता है।
5. एक विधायक जो विधानसभा में रणनीति को योजना बनाने में शामिल होता है।
6. अगर कोई विधायक मुख्यमंत्री की राजनीतिक पार्टी का है। तो वह कैबिनेट मंत्री के तौर पर भी कार्य कर सकता है।
7.  विधानसभा में विधायक अपने निर्वाचित क्षेत्रों में होने वाले कार्य की रिपोर्ट देता है तथा अपने क्षेत्र में नए कार्यों को लेकर सुझाव व प्रस्ताव रखता है।
8. विपक्षी सदस्य अपने निर्वाचन क्षेत्र और आलोचक क्षेत्र के बारे में सदन में प्रश्न पूछ सकते हैं। विपक्षी राजनीतिक पार्टी के विधायक सरकार द्वारा लागू किए गए कानून में अपने सुझाव देने के लिए स्वतंत्र होते हैं।
9. तहसील से संबंधित हर प्रकार के सुझाव कार्य विधायक द्वारा संपन्न किए जाते हैं।
10. तहसील व विधायक कोष से कई प्रकार के विकास कार्य तथा योजनाएं चलाई जाती है। उनकी रिपोर्ट विधायक को विधानसभा में मुख्यमंत्री या अन्य कैबिनेट मंत्री के सामने पेश करनी पड़ती है।
11. वर्तमान समय में राजस्थान में 200 विधायक चयनित किए गए हैं।
राजस्थान में विधायक की सैलरी :-
राजस्थान राज्य में विधायक के पद पर कार्यरत व्यक्ति जो तहसील से संबंधित हर प्रकार के कार्य संपन्न करता है और तहसील से संबंधित हर प्रकार के कार्यों में विधायक अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। ऐसा कहा जाए, तो विधायक तहसील का मुख्य कहलाता है। सातवें वेतन आयोग के पश्चात पूरे देश में सभी सरकारी कर्मचारियों की सैलरी में बढ़ोतरी हुई है। उसी प्रकार से विधायक की सैलरी में भी बढ़ोतरी हुई है। सातवें वेतन आयोग के पश्चात विधायक की सैलरी ₹125000 प्रति महीना है।
सभी प्रकार को जॉब्स की सलेरी देखे 

Leave a Comment

Don`t copy text!