सरपंच की सैलरी कितनी होती है | Sarpanch Ki Salary Kya Hoti Hai

सरपंच की सैलरी कितनी होती है:- सरपंच गांव का मुखिया होता है। सरपंच को गांव का लीडर कहा जाता है। गांव में कई प्रकार के विकास कार्य सरपंच द्वारा संपन्न किए जाते हैं। गांव के मामलों में कई प्रकार के फैसले सरपंच द्वारा लिया जाता है। ग्राम पंचायत से जुड़े हर कार्य को सरपंच निभाता है। ग्राम पंचायत में सबसे ऊंचा पद सरपंच का होता है और ग्राम पंचायत की ऊंची भूमिका सरपंच द्वारा ही निभाई जाती है। सरपंच के पास गांव से संबंधित हर प्रकार की पॉवर और दायित्व होता है। गांव की भलाई और सार्वजनिक कार्य करने के लिए सेवक के तौर पर सरपंच के चुनाव होते हैं।सरपंच की सैलरी कितनी होती है , Sarpanch Sallary in Rajasthan , सरपंच 5 साल मे कितना कमाता है , Sarpanch Ki Sallary Kya Hoti Hai , Sarpanch Ki Sallary Kitni Hoti Hai Mahine Ki ,सरपंच की सैलरी कितनी होती है , Sarpanch Ki Salary Kitni Hoti Hai , राजस्थान में सरपंच की सैलरी , सरपंच की सैलरी Rajasthan , Gaon Ke Sarpanch Ki Salary , Rajasthan Me Sarpanch Ki Salary , सरपंच की सैलरी कितनी है

सरपंच का कार्यकाल 5 साल का होता है। सरपंच स्थाई तौर पर सरकारी कर्मचारी नहीं होता है। हर 5 साल पश्चात सरपंच के पुनः चुनाव होते हैं और नया सरपंच चुना जाता है। लोकतंत्र में सबसे छोटा पद गांव के मुखिया के तौर पर सरपंच का होता है। हालांकि इससे नीचे भी उप सरपंच और वार्ड पंच होते हैं। आज हम इस आर्टिकल के माध्यम से सरपंच के क्या कार्य है और सरपंच को कितनी सैलरी मिलती है इसके बारे में जिक्र करेंगे।

सरपंच के कार्य और प्रोफाइल:- 

1 . हमारे देश में करीब 29000 ग्राम पंचायत है। देश की 70% आबादी गांवों में निवास करती है। गांव के विकास और रखरखाव के लिए केंद्र और राज्य सरकार द्वारा ग्राम पंचायत में लाखों रुपए राशि प्रदान करवाई जाती है। यह राशि सरपंच के पास आती है और सरपंच गांव में कई प्रकार के कार्य केंद्र और राज्य सरकार द्वारा दी गई राशि से करवाता है।

2. गांव का मुखिया होने के नाते सरपंच ग्राम पंचायत से संबंधित कई प्रकार के निर्माण कार्य को ग्राम पंचायत कोष से करवाता है। सरपंच द्वारा गांव की साफ-सफाई पानी पेंशन पक्के भवन निर्माण सिंचाई की सुविधा इत्यादि कार्य गांव में करवाए जाते हैं।

3. इसके अलावा केंद्र और राज्य सरकार द्वारा चलाई गई योजना में भी सरपंच की मुख्य भूमिका होती है।

4. सरपंच द्वारा गांव के निवासियों के कई प्रकार के दस्तावेज बनाने में भी हस्ताक्षर की आवश्यकता होती है। उन दस्तावेजों पर सरपंच ने हस्ताक्षर करके दस्तावेज को माननीय करता है। सरपंच अपने लेटर पैड पर लिख कर एड्रेस प्रूफ के तौर पर एक दस्तावेज बना सकता है। इसके अलावा मूल निवास प्रमाण पत्र जाति प्रमाण पत्र आय प्रमाण पत्र इत्यादि पर सरपंच के हस्ताक्षर होते हैं।

5. सरपंच का कार्य सड़क निर्माण में अपनी भूमिका देना आंगनवाड़ी कार्यो की देखरेख करना शिक्षा के क्षेत्र में भी अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाना होता है।

6. गांव के विकास कार्य में सरपंच की भूमिका महत्वपूर्ण होती है और गांव का मुखिया होने के नाते गांव के विकास कार्य से संबंधित हर प्रकार के कार्य सरपंच द्वारा संपन्न किए जाते हैं।

7. गांव के लोगों द्वारा जमीन बेचने पर म्यूटेशन सरपंच द्वारा भरा जाता है।

सरपंच की कितनी सैलरी होती है:-  सरपंच गांव का मुखिया होता है। लेकिन सरपंच की सैलरी बहुत कम होती है। सरपंच की सैलरी सरकार द्वारा तय की गई है। गांव के विकास कार्यों को संपन्न करने में सरपंच की मुख्य भूमिका होती है। सातवें वेतन आयोग के पश्चात सरपंच की सैलरी सरकार द्वारा 2500 से ₹3000 प्रति महीना तय की गई है। यह सैलरी ऐसे देखा जाए तो बहुत कम है।

इस आलेख को इंग्लिश पढ़े :- Sarpanch Salary in Rajasthan 2021
सभी प्रकार को जॉब्स की सलेरी देखे 

Leave a Comment

Don`t copy text!