उपसरपंच सैलरी , उपसरपंच कि सैलरी कितनी होती है

ग्राम पंचायत का मुखिया सरपंच को कहा जाता है। सरपंच के साथ-साथ ग्राम पंचायत में हर पांच साल बाद उपसरपंच के चुनाव भी होते हैं। उप सरपंच गांव के विकास कार्यों में ज्यादा भूमिका नहीं निभाता है। लेकिन नाम मात्र के लिए उपसरपंच का चयन भी होता है। जैसे यदि राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति की बात की जाए उसी प्रकार सरपंच के साथ उप सरपंच के चुनाव भी होते हैं। उप सरपंच गांव में अपनी भूमिका तब निभाता है। जब किसी कारणवश सरपंच इस्तीफा दे दें या सरपंच की मृत्यु हो जाए। तब गांव को उपसरपंच चलाता है। आज हम सरपंच के कार्य के बारे में बात करेंगे। साथ ही Sउप सरपंच की सैलरी कितनी होती है , उपसरपंच का वेतन राजस्थान 2021 , उपसरपंच का वेतन , Up Sarpanch Salary , उपसरपंच को कितना वेतन मिलता है , उपसरपंच का वेतन कितना है , उप सरपंच की सैलरी , उपसरपंच का वेतन राजस्थान, उपसरपंच का वेतन राजस्थान , उपसरपंच का वेतन कितना होता है , उपसरपंच का कार्य , उपसरपंच अधिकार इसका भी जिक्र करेंगे।

उप सरपंच के कार्य :-
1. हर एक ग्राम पंचायत में सरपंच के साथ-साथ उपसरपंच का चयन भी होता है।
2. उप सरपंच बनने के लिए न्यूनतम आठवीं पास होना अनिवार्य है और साथ ही 21 वर्ष की उम्र होना भी जरूरी है।
3. जो व्यक्ति उपसरपंच बनता है। वह गांव में कई प्रकार के कार्यों को संपन्न करता है। हालांकि जब तक सरपंच कार्यभार संभालते हैं। तो उपसरपंच को ज्यादा कुछ कार्य करने की आवश्यकता नहीं पड़ती है।
4. उप सरपंच गांव के लोगों के कई प्रकार के दस्तावेज जैसे:-  मृत्यु प्रमाण पत्र, जन्म प्रमाण पत्र, मूल निवास प्रमाण पत्र, जाति प्रमाण पत्र, आय प्रमाण पत्र इत्यादि में अपने हस्ताक्षर करता है।
5. उप सरपंच का पद गांव में दूसरा सबसे बड़ा पद मारा जाता है। उप सरपंच को 5 साल के लिए चुना जाता है और उसके पश्चात पुनः नए चुनाव के साथ उपसरपंच के चुनाव भी होते हैं।
6. उपसरपंच का मुख्य कार्य किसी कारणवश सरपंच द्वारा इस्तीफा दे दिया जाए या सरपंच की मृत्यु हो जाए तब गांव के विकास कार्यों में अपनी भूमिका निभाना होता है।
7. सरपंच द्वारा इस्तीफा दे देने या सरपंच की मृत्यु हो जाने के पश्चात उपसरपंच गांव के विकास के हर कार्य जैसे :- सड़क निर्माण, शिक्षा विभाग संबंधित, आंगनवाड़ी कार्यो की देखरेख, महानरेगा कार्यों पर देख रेख इत्यादि, सभी कार्य को संपन्न करता है। मतलब यूं कहें, कि सरपंच के ना होने की स्थिति में उपसरपंच गांव के वह सारे कार्य करता है, जो पहले सरपंच द्वारा किए जाते थे।
8. कई प्रकार की सरकारी योजनाएं जिनमें उपसरपंच अपनी मुख्य भूमिका निभाता है। इसके अलावा ग्राम पंचायत से संबंधित विकास कार्यों में सरपंच के साथ साथ उप सरपंच के हस्ताक्षर भी अनिवार्य है।
उप सरपंच की सैलरी :-गांव का दूसरा सबसे बड़ा पद उपसरपंच का होता है। राजनीतिक तौर पर गांव का दूसरा सबसे बड़ा पद उपसरपंच के पद को कहा जाता है। गांव का दूसरा सबसे बड़ा पद होने के बावजूद भी उप सरपंच को इतनी ज्यादा सैलरी नहीं मिलती है। उप सरपंच की सैलरी सरपंच से कम होती है। सातवें वेतन आयोग के पश्चात उप सरपंच की सैलरी 1200 रुपए से 1500 रुपए प्रति महीना होती है।
इस आलेख को इंग्लिश पढ़े :Sub Sarpanch Salary
सभी प्रकार को जॉब्स की सलेरी देखे 

Leave a Comment

Don`t copy text!