TGT कोर्स क्या है

TGT कोर्स क्या है :-TGT के लिए आपकी Education Qualification क्या होनी चाहिए आइये जानते है अगर आप टीचिंग में अपना करियर बनाना चाहते है तो आपका किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से graduate होना बहुत ही आवश्यक है और आपके पास Teacher Certificate उदाहरण के तौर पर B.ed, M.ed या फिर BTC का प्रमाण पत्र होना बहुत ही आवश्यक है इस के लिए अधिकतम आयु की सीमा government rules के अनुसार तय की जाती है TGT के लिए आपकी आयु 21 से 60 वर्ष के बीच होनी चाहिए आपको पता ही होगा TGT के लिए लिखित परीक्षा राज्य स्तर पर आयोजित की जाती है और इस लिखित परीक्षा में आपका 85 फ़ीसदी आंक से पास होना बहुत ही आवश्यक है दोस्तों candidate को पर्सनल इंटरव्यू में 10% अंक प्राप्त करना भी जरुरी है और अगर आप TGT की परीक्षा पास कर लेता है तो आप 6th Class से लेकर 10th Class के बच्चो को पढ़ा सकता है।TGT कोर्स क्या है

TGT Full Form In Hindi :- TGT की फुल फॉर्म Trained Graduate Teacher होती है TGT का हिंदी meaning प्रशिक्षित स्नातक शिक्षक होता है दोस्तों TGT कोई Course नही है यह तो एक Title है आइये अब इसके बारे में अन्य Information भी प्राप्त कर लेते है |

TGT में कौन-कौनसे Courses & Subject होते है :-TGT में कौन-कौन से subjects होते है आइये जानते है जैसा की आप जानते है TGT कोई course नहीं है बल्कि एक नाम होता है TGT, graduate को दिया गया एक शीर्षक है और उन्ही को TGT teacher भी कहते है दोस्तों TGT में कई तरह के subjects पढाये जाते है कुछ विषय नीचे सूचीबद्ध हैं −
Hindi English
History
Geography
Math
Economics
Regional Language

Tgt syllabus :- अगर इसके सिलेबस की बात करे तो इसमे जिस subject से apply किया है। उसी से संबंधित प्रश्न पूछे जाते है। इसमे ऑब्जेक्ट टाइप के प्रश्न पूछे जाते हैं। इसमे गलत जवाब देने पर नेगेटिव मार्किंग होती है। टेस्ट पास करने के बाद इंटरव्यू के द्वारा अंतिम चयन होता है। इसके चयन में लिखित परीक्षा और इंटरव्यू दोनों के नंबरों को जोड़कर नौकरी के लिए सेलेक्शन किया जाता है।

TGT करने के बाद जॉब :- ये एक ऐसा प्रश्न है जो कि सभी के दिमाग मे घूमता रहता है। अधिकतर लोग ये ही जानते हैं कि इसे पास करने के बाद teacher बनते हैं लेकिन ये नहीं जानते कि कौन से टीचर। अब हम आपको समझाते है कि टीजीटी के बाद क्या होता है | प्राइमरी टीचर बनने के लिए btc की जाती है। btc करने के बाद आपको प्राइमरी लेवल का tet क्वालीफाई करना होता है। तब जाकर आप 1 से 5वीं तक के सरकारी स्कूलों में teacher बन सकते हैं। जूनियर टीचर बनने के लिए बी एड किया जाता है। इसके साथ – साथ जूनियर लेवल का tet पास करना पड़ता है। तभी आप 6वीं से 8वीं तक के जूनियर स्कूल में शिक्षक बन सकते हैं।

Useful Article 

Leave a Comment

Don`t copy text!